अब हर डॉक्टर को लिखनी होगी सस्ती दवा

generic vs ethical

मेडिकल कॉउंसिल ऑफ़ इंडिया ने दिशा निर्देश जारी करते हुए भारतवर्ष के सभी डॉक्टरों को निर्देशित किया है कि उन्हें अब सस्ती दवाएं लिखनी होंगी |

दवाएं कंपनी के आधार पर दो प्रकार की होती है –

1 Ethical Company 

 2 Generic Company 

इन कंपनीओ के आधार पर Ethical या ब्रांडेड कंपनीओ की दवाएं अधिक महँगी होती है |

परन्तु जेनेरिक दवाएं Ethical कंपनीओ की तुलना में बहुत सस्ती होती है |

अब डॉक्टरों को जेनेरिक कंपनी की दवाई ही लिखनी होगी |

मेडिकल कॉउंसिल के दिशानिर्देश के अनुसार जेनेरिक दवाएं डॉक्टरों को कैपिटल लेटर में ही लिखनी होगी |

उपरोक्त दिशानिर्देशों का उल्लंघन करने वाले डॉक्टरों पर मेडिकल कॉउंसिल एक्ट की धारा के तहत कार्यवाही की जाएगी |

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)